श्रीहितदास जी महाराज ब्रज के रसिक संत थे- काष्णि गुरूशरणानंद महाराज

– हिताश्रम सत्संग भूमि पर बारह दिवसीय जयंती महोत्सव में काष्णि गुरुशरणानंद महाराज ने स्मृति ग्रन्थ का लोकार्पण किया
वृन्दावन, 31 अक्टूबर 2018। रसिक संत स्वामी हितदास महाराज के जयंती महोत्सव में मंगलवार को समाज गायन में संतों ने उनके पदों का सस्वर गायन किया। इस मौके पर आयोजित संगोष्ठी में संतों ने हितदास महाराज के जीवन चरित्र पर प्रकाश डाला। संगोष्ठी में उनके जीवन पर आधारित स्मृति ग्रंथ का भी संतों ने विमोचन किया।
गांधी मार्ग स्थित हिताश्रम सत्संग भूमि पर चल रहे बारह दिवसीय जयंती महोत्सव में काष्णि गुरुशरणानंद महाराज ने स्मृति ग्रन्थ का लोकार्पण करते हुए कहा कि हितदास महाराज ब्रज के रसिक संत थे। सरल स्वभाव के संत हितदास महाराज ने ब्रज संस्कृति के उत्थान के लिए अनेक कार्य किए। महंत कमल दास ने संतों व विद्वतजनों का सम्मान माला एवम शॉल पहनाई। संचालन चंद्रप्रकाश शर्मा ने किया।
किशोरी रामणाचार्य, काष्र्णि जगदानंद, महंत लाडली शरण, योगेंद्र गोस्वामी, पिंकी गोस्वामी, हित अम्बरीश, राधाकृष्ण पाठक, डॉ. अनुरागकृष्ण पाठक, बिहारी लाल वशिष्ठ, संत गोविंदानंद तीर्थ, दामोदर दास, हरीश कुमार शर्मा, राजकुमार बंसल, श्याम अग्रवाल, गोवर्धन अग्रवाल, राजकमल ओझा, पुष्प सेतिया, सुमन ग्रोवर मौजूद रहे।  DKS

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *