रणवाड़ी के सिद्ध श्रीकृष्णदास बाबा के तिरोभाव महोत्सव पर विशेष :

वृन्दावन, रणवाड़ी  के सिद्ध बाबा श्रीकृष्णदास जी बंगवासी थे, संपन्न ब्राह्मण कुल में उत्पन्न हुए थे, जब घर में अपने विवाह की बात सुनी तो ग्रहत्याग कर पैदल भागकर श्रीधाम वृंदावन आ गए। जिस समय वृंदावन आये थे उस समय वृंदावन भीषण जंगल था, वही अपनी फूस की कुटी बनाकर रहने लगे, केवल एक बार ग्राम से मधुकरी माँग लाते थे। बाबा बाल्यकाल में ही … [आगे पढ़ें...]

बांकेबिहारी महाराज के चरणों में मनाया नववर्ष, रिकाॅर्ड तोड़ भीड़

- प्रशासनिक रिपोर्ट के मुताबिक चार-पांच लाख लोग नया साल मनाने के लिए मथुरा में आए हैं    - वृंदावन, गोवर्धन, बरसाना, राधाकुंड और गोकुल में भारी भीड़ रही - वृन्दावन में प्रशासनिक इंतजामात रहे फेल, भारी जाम वृन्दावन, 02 जनवरी 2018, (VT) मथुरा में नव वर्ष 2019 का स्वागत भगवान श्रीकृष्ण के चरणों में आस्था और विश्वास के पुष्प अर्पित कर किया … [आगे पढ़ें...]

आज रात से ही गिरिजाघरों में जिंगल-बेल की सुनाई देगी गूंज

- शहर की गिफ्ट दुकानों पर बेल्स, स्टार, सेंटा ड्रेस, क्रिसमस ट्री, बलून आदि खरीदने को युवाओं की भीड़ रही वृन्दावन, 23 दिसम्बर 2018, (VT) आज रात बारह बजते ही गिरिजाघरों में जिंगल बेल-जिंगल बेल की गूंज सुनाई देगी। क्रिसमस की पूर्व संध्या से ही शहर के चर्च रंग-बिरंगी रोशनियों से जगमगाने लगे हैं। घरों में जहां क्रिसमस केक की तैयारियां की जा … [आगे पढ़ें...]

रससागर श्रीस्वामी बिट्ठलविपुल देव जी महाराज के आविर्भाव महोत्सव पर विशेष

वृन्दावन, 15 दिसम्बर 2018। रससागर श्रीस्वामीबीठलविपुल देव जी का जन्म वृन्दावन के निकटवर्ती राजपुर ग्राम में हुआ था। स्वामी श्रीहरिदास जी के मामा श्रीगुरुजन आपके पिता थे और माता श्रीमती कौशल्या देवी। अवस्था में आप स्वामी जी से 5 वर्ष बड़े थे। अर्थात आपका जन्म संवत 1532 की मार्गशीष (अगहन) शुक्ल पंचमी यानी बिहार पंचमी का है। स्वामी श्रीनागरी … [आगे पढ़ें...]

रंगनाथ मंदिर में 10 दिवसीय वैकुंठ उत्सव 18 से, कांच के विमान में विराज देंगे दर्शन

- भगवान रंगनाथ कांच के विमान में बैठकर भक्तों को देंगे दर्शन - कभी भगवान राम एवं भगवान कृष्ण के विभिन्न स्वरूपों में दर्शन देंगे वृंदावन, 14 Dec, 2018 (VT) उत्तर भारत के प्राचीन और दक्षिण शैली के प्रसिद्ध रंगनाथ मंदिर में 10 दिवसीय वैकुंठ उत्सव 18 दिसंबर को वैकुंठ एकादशी से शुरू हो रहा है। इस महापर्व पर भगवान रंगनाथ की सवारी वैकुंठ … [आगे पढ़ें...]

प्रकटे बांकेबिहारी, चांदी के रथ में बधाई देने निकले स्वामी हरिदासजी

- शोभायात्रा में भगवान गणेश, राधा कृृष्ण की झांकी, हरिदास संप्रदाय के रसिक संतों की सवारी के साथ चांदी के रथ में अपने लाडले ठाकुर बांकेबिहारी महाराज को संगीत शिरामणि स्वामी हरिदासजी गोद में लिए विराजमान थे - ठाकुर बांके बिहारी के पाकट्य महोत्सव पर सुबह सात बजे मंदिर सेवायतों ने ठाकुरजी का प्रतीकात्मक अभिषेक किया वृन्दावन, 13 दिसम्बर … [आगे पढ़ें...]

बांकेबिहारी मंदिर में सुविधाओं के सुधार पर आम जनमानस से मांगे सुझाव

- मंदिर प्रबंधन ने मंदिर की ओर जाने वाले छोटे मार्गों के चैड़ीकरण एवं सौंदर्यीकरण - मंदिर परिसर में दर्शनार्थियों की भीड़ को सुरक्षा प्रदान करने के साथ नियंत्रित करने सहित अन्य आवश्यक मुद्दों पर 15 दिसंबर तक सुझाव मांगे हैं। वृंदावन, 09 Dec 2018 (VT) ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर में दर्शनार्थियों की सुविधा के लिए मंदिर प्रबंधक तथा जिला प्रशासन … [आगे पढ़ें...]

जन्मदिवस पर विशेष (1दिसंबर1886) : देश ने भुला दिया महान स्वतंत्रता सैनानी राजा महेंद्र प्रताप को 

-प्रेम धर्म के संस्थापक राजा साहब को आजतक नही मिला कोई सम्मान Vrindavan : वृन्दावन न सिर्फ केवल भक्ति और आध्यात्म केंद्र रहा है बल्कि इस भूमि ने देश को स्वतंत्र कराने में भी अपना महती योगदान दिया है। देश को स्वतंत्रता दिलाने में अनेक लोगों ने अपने प्राणों की आहुति दी,इन अमर सैनानियों में कुछ ऐसे भी रहे जिनके योगदान को देश ने भूला दिया। … [आगे पढ़ें...]

अब वृद्धा आश्रम के पैटर्न पर गो-आश्रम किए जाएंगे स्थापित

- यह गो-आश्रम ब्लॉक स्तर पर स्थापित किए जाएंगे वृन्दावन, 29 नवम्बर 2018, (VT) उत्तर प्रदेश में अब वृद्धा आश्रम के पैटर्न पर गो-आश्रम स्थापित किए जाएंगे। इनका संचालन सरकार पर बोझ न बने, इसके लिए इन्हें आत्मनिर्भर भी बनाया जाएगा। यह गो-आश्रम ब्लॉक स्तर पर स्थापित किए जाएंगे। उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश में निराश्रित गोवंश की समस्या से … [आगे पढ़ें...]

भैया हो अद्भुत मंगल आज, प्रकटे श्रीहरिराम व्यास जू रसिकन के सिरताज…

-किशोरवन में मनाया गया हरिराम व्यासजी महाराज का 508वां प्राकट्योत्सव धार्मिक अनुष्ठान एवं आध्यात्मिक के साथ मनाया वृन्दावन, कब मिली हैं वो सखी सहेली हरिवंशी हरिदासी, वंशीवट की शीतल छैय्या, सुभग नदी यमुना सी, इतनी आस व्यास की पूजवौहु, वृंदावन विपिन विलासी, हरि हम कब होंगे ब्रजवासी, हरि हम कब होंगे ब्रजवासी...। विशाखा सखी जी के अवतार … [आगे पढ़ें...]